शहर में हर हर महादेव की गूंज शिवालयों में कई तरह के अभिषेक

0
228
शिवरात्री पर अभिषेक करते भक्तगण

जोधपुर। महाशिवरात्रि पर आज सवेरे से ही शहर के शिवालयों में भक्तों का ताँता लगा रहा। बम बम भोले और हर हर महादेव से भोले को रिझाने का प्रयास करते देखे गए।
शिवालयों में चारों पूजाओं में कुंकुम, भांग, बिल पत्र, सफेद आक के पुष्प, तुलसी मंजरी, शमी पत्र, दूब, गुलाल, अबीर चढ़ाए गये। चार महाभिषेक में तिथि वार नक्षत्र तथा तिथियों के संयोग के अनुसार पूजन अभिषेक कर सकते है तो सर्वसिद्धि देने वाली पूजा बन सकती है। आज शाम को शिवालयों में भजन संध्याओं का भी आयोजन किया जा रहा है।
शहर के कटला बाजार स्थित अचलनाथ मंदिर, तख्तसागर के सिद्धनाथ, भूतनाथ, चांदपोल के रामेश्वर नाथ सिद्धपीठ, रातानाडा शिवमंदिर, एकलिंग महादेवआदि शिवालयों में आज दिनभर अभिषेक और धार्मिक अनुष्ठान जारी रहे ।उम्मेद उद्यान स्थित शिवालय में भोलेनाथ का महाऋंगार किया गया और वहां पर संकीर्तण हो रहे हैं।
शहर के प्रमुख शिवालयों में महाशिवरात्रि के चारों प्रहर चतुर्याम पूजन और विवाह से जुड़ी झांकियां सजाई गई हैं। सिंधी गुरुसंगत दरबार में बर्फानी शिवलिंग की झांकी सजाई गई है। शहर की विभिन्न कॉलोनियों के शिवालयों में भी भक्त सवेरे से ही पूजा अर्चना में लगे हुए हैं
पौराणिक मान्यता के अनुसार जो व्यक्ति वर्ष भर कोई व्रत उपवास नहीं रखता है और वह मात्र महाशिवरात्रि का व्रत रखता है तो उसे पूरे वर्ष के व्रतों का पुण्य प्राप्त हो जाता है। इस बार सर्वार्थ सिद्धि योग तथा 25 फरवरी को सिद्ध योग पड़ रहा है। प्रदोष व्रत एवं महाशिवरात्रि पर द्बादश पूजन का विधान है। महानिशीथ काल का पूजन सर्वोत्तम माना जाता है। यहीं नहीं पौराणिक मान्यता भी है कि ज्योतिर्लिंग का प्राकट्य भी अद्र्धरात्रि यानी महाशिवरात्रि को माना गया है। महाशिवरात्रि का पर्व इस बार कई विशेष संयोग लेकर आ रहा है, जो सभी के लिए शुभ फल देने वाले हैं।
महाशिवरात्रि पर्व पर इस बार सर्वार्थ सिद्धि योग भी बन है, जो सभी के लिए शुभ फलदायी रहेगा। महाशिवरात्रि पर जलाभिषेक से भगवान शिव की पूजा का पूर्ण लाभ मिलता है। शास्त्रीय मान्यता के अनुसार चार पहर की पूजा मनुष्य को परमतत्व प्रदान करती है। महाशिवरात्रि की महारात्रि को अहोरात्र भी कहा गया है। जो भक्तजन चार पहर की पूजा कर भगवान शिव की आराधना करते हैं, उनके सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। वास्तव में जलाभिषेक के साथ ही पूजा का क्रम प्रारंभ हो जाता है। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान आशुतोष का जलाभिषेक कर दिया जाए तो निश्चय ही द्बादश ज्योतिर्लिंगों की पूजा और दर्शन का लाभ मिल जाता है। श्रावणी में शिव चौदस तथा फाल्गुन में शिवरात्रि के दिन गंगा जल चढ़ाने का महत्व विभिन्न धर्मशास्त्रों में दर्शाया गया है।
शिव पुराण के अनुसार महाशिवरात्रि ही भगवान आशुतोष का असली पर्व है। इस दिन शिव और सती एकाकार हुए थे। शिवरात्रि ही एक मात्र ऐसा दिन है जिस दिन शिव पर चढ़ाया गया जल सती को भी प्राप्त होता है। हिन्दू शैव ग्रंथों के मुताबिक शिव लीला ही सृष्टि, रक्षा और विनाश करने वाली है। वह अनादि, अनन्त है यानी उनका न जन्म होता है न अंत। वह साकार भी है और निराकार भी। इसलिए भगवान शिव कल्याणकारी हैं।

 

LEAVE A REPLY