भगवान परशुराम चौराहे का विधिवत उद्घाटन

0
395
भगवान परशुराम चौराहे का हुआ लोकार्पण

जोधपुर। प्रदेश के अन्य जिलों की तरह जोधपुर में भी परशुराम जयंती को लेकर उत्साह का माहौल है और जयंती को लेकर जोधपुर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जा रहा है। जयंती के एक दिन पूर्व अंतरराष्ट्रीय ब्राह्मण फैडरेशन द्वारा नगर निगम से विकास के लिहाज से जोधपुर के चौपासनी हाउसिंग बोर्ड स्थित सेंट्रल एकेडमी स्कूल के पास गोद लिए गए भगवान परशुराम चौराहे का विधिवत उद्घाटन सैनाचार्य अचलानंद गिरी महाराज व संत हरिराम महाराज के सान्निध्य में किया गया।
भगवान परशुराम चौराहे के उद्घाटन समारोह में महापौर घनश्याम ओझा मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे तो वही विधाायक सूर्यकांता व्यास व पूर्व महापौर रामेश्वर दाधीच विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। प्रारंभ में अंतरराष्ट्रीय ब्राह्मण फैडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष हस्तीमल सारस्वत ने अतिथियों का स्वागत करते हुए महापौर घनश्याम ओझा का चौराहा गोद देने के लिए आभार जताया और विश्वास दिलाया कि पर्यावरण दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए इस चौराहे का अच्छे से विकास कराया जाएगा जो नजीर बनेगा।
इस अवसर पर फैडरेशन के महानगर अध्यक्ष राजेश सारस्वत और उनकी टीम के सदस्यों ने अतिथियों का स्वागत किया। मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद महापौर घनश्याम ओझा ने संबोधित करते हुए कहा कि भगवान परशुराम सिर्फ ब्राह्मण समाज के ही नही सभी के आराध्य देव रहे है। भगवान परशुराम चौराहा को लेकर लम्बे समय से मांग चल रही थी जो कि आज पूरी हो गई है। नगर निगम इस चौराहे के सौन्दर्यकरण के लिए जो संभव प्रयास होंगे वो करेगा और इसको एक भव्य चौराहा बनाएंगे ताकि लोग इसका उदाहरण दे सके। इस अवसर पर संत हरिराम महाराज ने संबोधित करते हुए कहा कि भगवान परशुराम अत्यंत स्वाभिमानी थे जिसका स्वरूप ब्राह्मण समाज में देखने को मिलता है। ब्राह्मण समाज के सभी लोगों को चाहिए कि वे भी प्रेरणा लेकर स्वाभिमानी बने और सदा सच्चाई के मार्ग पर चले। इस अवसर पर विधायक सूर्यकांता व्यास ने विश्चास दिलाया कि 20 लाख तक की राशि इस चौराहे के विकास के लिए वे विधायक कोटे से देंगी।
समरसता यात्रा भी
भगवान परशुराम जन्मोत्सव पर गुरुवार शाम को अहम् ब्रह्म-विप्र समरसता यात्रा निकाली जाएगी।
ऋषिराज पुरोहित व रविन केवलिया ने बताया कि समरसता यात्रा की तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। शाम 5 बजे फतेहपोल से यात्रा प्रारंभ होगी जो नाइयों का बड, आडा बाजार, कुम्हारियां कुआं, खांडाफलसा, जालोरी गेट स्थित ब्रह्मबाग जाएगी।  मोहित ओझा व शिवदत्त व्यास ने बताया कि यात्रा को लेकर अनेक स्वजाति बंधुओं ने वीर मौहल्ला, नवचौकिया, गूंदी का मौहल्ला, ब्रह्मपुरी, बोहरों की पोल, भीमजी का मौहल्ला, जालप मौहल्ला, ब्रह्मबाग, हाउसिंग बोर्ड, कुडी, गोल मौहल्ला, रातानाडा, कमला नेहरू नगर, सूरसागर आदि क्षेत्रों में घर-घर ढोल-थाली के साथ घुमकर पीले चावल व जनेऊ वितरण कर समरसता यात्रा में अधिक से अधिक सम्मिलित होने का आमंत्रण दिया। लवजीत पारीक व राकेश कल्ला ने बताया कि समरसता यात्रा में राजेश रामदेव, हेमंत घोष, घनश्याम वैष्णव, नथमल पालीवाल, जगतनारायण जोशी, कैलाश सारस्वत, आसुलाल जोशी, बिरम सांखी बालेसर, विजय व्यास, भूपेन्द्र पारीक, सुरेश जोशी, सुनिल व्यास, एसपी बोहरा अतिथि के रूप में हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना करेंगे।
शोभायात्रा भी निकलेगी
राजस्थान ब्राह्मण महासभा जोधपुर की ओर से शोभायात्रा गुरुवार शाम पांच बजे गांधी मैदान सरदारपुरा से शुरू होगी। महासभा अध्यक्ष कन्हैयालाल पारीक ने बताया कि शोभायात्रा में इस बार ड्रेस कोड के तहत महिलाएं भगवा साड़ी और पुरुष सफेद पोशाक साफा पहनने के साथ तिलक लगा हाथ में परशुराम का फरसा लेकर भगवान श्री परशुराम के कटआउट लेकर शामिल होंगे। कार्यकारी अध्यक्ष दिनेश गौड़ ने बताया कि मुख्य शोभायात्रा प्रारंभ होने से पूर्व दोपहर में कुड़ी भगतासनी हाउसिंग बोर्ड, सूरसागर, नांदड़ी, डिंगाड़ी, मदेरणा कॉलोनी, कालीबेरी, बोरावास, महामंदिर क्षेत्रों से शोभायात्रा रवाना हुई जो शाम पांच बजे मुख्य शोभायात्रा गांधी मैदान में जाकर सम्मिलित होगी।
महापौर के समर्थन में सामने आया अंतरराष्ट्रीय ब्राह्मण फैडरेशन
विकास कार्य नहीं होने का दावा कर महापौर के खिलाफ लामबंद हुए 24 पार्षदों के मामले को अंतरराष्ट्रीय ब्राह्मण फैडरेशन ने काफी गंभीरता से लिया है और बकायदा खुले रूप से प्रदेशाध्यक्ष हस्तीमल सारस्वत ने घनश्याम ओझा की ईमानदारी की जांच कराने को कहा है और यह भी कहा है कि घनश्याम ओझा ईमानदारी से जोधपुर के विकास में जुटे हुए है और पूरा ब्राह्मण समाज घनश्याम ओझा के साथ खडा है।
ईमानदारी से कार्य करते हुए भी अगर पार्षदों के दबाव में ओझा को हटाया जाता है तो हमारे कोई फर्क नही पड़ेगा क्योकि ओझा की ईमानदारी की छवि किसी से छुपी हुई नहीं है इसलिए ओझा ईमानदारी से काम करना तो नहीं छोड़ेंगे क्योकि ओझा द्वारा जिम्मेदारी संभालने के बाद कई लोगों की दुकाने बंद हो गई है इसलिए इस तरह विरोध किया जा रहा है।
सारस्वत ने यह बात सेंट्रल एकेडमिक स्कूल के पास आज उद्घाटित हुए परशुराम चौराहे के कार्यक्रम में संबोधन के दौरान कही। हालांकि महापौर ने अपने संबोधन में स्पष्ट कहा कि ब्राह्मण समाज को इस मामले में बीच में नहीं पडऩा चाहिए। मैने अपने स्तर पर जो भी हो सकते थे विकास के सारे कार्य किए है। नगर निगम की बिगड़ी आर्थिक स्थिति की जानकारी पार्टी पदाधिकारियों को भी है।

LEAVE A REPLY