भंवरी हत्याकांड की मुख्य सूत्रधार इंद्रा विश्नोई को सीबीआई को सौंपा, पांच साल से फरार थी इंद्रा

0
941

खुल सकते है कुछ और नये राज
जोधपुर। बहुचर्चित एएनएम भंवरी देवी अपहरण और हत्याकांड की आरोपी इंद्रा विश्नोई को एटीएस ने सीबीआई को सौंप दिया है। एटीएस की टीम शनिवार को दोपहर में इंद्रा विश्नोई को लेकर जोधपुर पहुंची। फिर यहां लालसागर स्थित सीबीआई मुख्यालय में उसे सीबीआई के अधिकारियों को सुपुर्द कर दिया गया। मामले में इंद्रा विश्नोई से कड़ी पूछताछ के लिए दिल्ली से सीबीआई के अधिकारी भी मौजूद आए है। संभावना है कि उससे पूछताछ में कुछ और नये राज खुल सकते है। इंद्रा विश्नोई का मेडिकल करवाया गया है। इंद्रा विश्नोई को समाचार लिखे जाने तक कोर्ट में पेश नहीं किया गया था। उसे जज के आवास पर पेश किया जा सकता है।
करीब साढ़े पांच साल तक सीबीआई इंद्रा को गिरफ्तार करने की कवायद करती रही लेकिन सफलता नहीं मिली। सीबीआई ने इंद्रा को पकडऩे के लिए कई प्रयास किए। उस पर पांच लाख रुपए का इनाम रखा, घर नीलामी करने की प्रक्रिया की लेकिन इंद्रा सीबीआई के हाथ नहीं आई। आखिर इंद्रा को जयपुर एटीएस की टीम ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश के देवास स्थित निमावर थाना इलाके से गिरफ्तार कर लिया। आज एटीएस की टीम इंद्रा को जयपुर से लेकर जोधपुर पहुंची यहा उसे सीबीआई के हवाले किया गया है।
बताया गया है कि इंद्रा देवास में नर्मदा नदी के तट के पास गरीब तबके के व्यक्ति की तरह जीवनयापन कर रही थी। उसे यहां एक परिवार ने शरण दी थी, जो जोधपुर के पास का रहने वाला है और इंद्रा के परिवार से परिचित था। यह परिवार करीब 50 साल पहले देवास में जाकर रहने लगा था। सीबीआई ने इन्द्रा के खिलाफ 2012 में वारंट जारी किए थे। साथ ही उस पर 5 लाख रुपए का इनाम भी घोषित किया गया था। करीब दो माह पहले इंद्रा के बारे में उदयपुर की एटीएस चौकी को सूचना मिली थी कि वह देवास में है। इसके बाद एटीएस की टीमें उसकी तलाश में जुट गई। आखिरकार एटीएस ने शुक्रवार को उसे गिरफ्तार कर लिया।
आखिरी दौर में पहुंचा मामला
एससी-एसटी कोर्ट में सीबीआई के गवाहों के क्रॉस एक्जामिनेशन भी आखिरी दौर में है। उसके सबसे महत्वपूर्ण गवाह अमेरिका की फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन (एफबीआई) की डीएनए एक्सपर्ट अंबर-डी-कार गवाही देने जोधपुर आने वाली है। कोर्ट ने यूएस एंबेसी के मार्फत समन भेज दिया है, उन्हें 22 जून को हाजिर होना है। इस मामले में अभी तक 15 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें मलखान के साथ ही पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा और परसराम विश्नोई फिलहाल जेल में है।

LEAVE A REPLY