पुष्य नक्षत्र कल, बिक्री को लेकर व्यापारी उत्साहित

54

जोधपुर। धनतेरस से पहले मिनी धनतेरस यानि पुष्य नक्षत्र बुधवार को है। समृद्धिदायक व चिरस्थाई खरीदारी के लिए शुभ माने जाने वाले पुष्य नक्षत्र पर बिक्री के लिए सभी बाजार सजकर सज चुके है। वहीं शहरवासी भी इस दिन जमकर खरीदारी करने के लिए उत्साहित है। व्यापारियों के लिए पुष्य नक्षत्र मिनी धनतेरस की तरह है।
लोकमान्य के अनुसार नवरात्रा स्थापना, होमाष्टमी, महानवमी, धन, त्रयोदशी रूप में चतुर्दशी और दीपावली के दिनों को अबूझ मुहुर्त की संज्ञा दी गई है। इन दिनों में नए सामान की खरीद, नवगृह प्रवेश समेत सभी प्रकार के शुभ कार्य करने की परम्परा है। दीपोत्सव के पूर्व आने वाले पुष्य नक्षत्र पर भी ज्वैलरी, भूमि, मशीनरी, वाहन और अन्य गृहोपयोगी सामान की खरीद के लिए उत्तम व शुभ दिन है। धनतेरस से पहले पुष्य नक्षत्र व सिद्ध योग देखते हुए व्यापारियों को भी उम्मीद है कि धनतेरस से पहले बाजार में एक और मिनी धनतेरस मनेगी। पुष्य नक्षत्र को लिए व्यापारियों ने दुकानों पर माल जमा करके सजा दिए है। इस दिन इलेक्ट्रीक, इलेक्ट्रोनिक्स, ज्वैलरी, वाहन, फर्नीचर, बर्तन आदि की रिकॉर्ड तोड़ बिक्री की उम्मीद है।
ज्योतिषियों की माने तो इस बार भद्रा तिथि में बुध, पुष्य नक्षत्र और सिद्ध योग का विशेष संयोग बन रहा है जिसे विशेष फलदायी माना गया है। ज्योतिषियों के अनुसार ऐसा बहुत कम संयोग बनता है, जब भद्रा तिथि, दिन बुधवार, पुष्य नक्षत्र में सिद्ध योग बन रहा होता है। यह विशेष संयोग 31 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र बना है। नक्षत्रों का राजा होने के कारण इसे मिनी धनतेरस भी कहा जाता है। इस दिन अष्टमी तिथि दोपहर 12.10 बजे प्रारंभ होगी, यह विशेष फलदायी है। पांच तिथियों में नंदा, भद्रा, जया, रिक्ता और पुर्णा तिथि होती है। पुष्य नक्षत्र के बाद पांच नवम्बर को धनतेरस है। इस दिन हस्त नक्षत्र का विशेष संयोग बन रहा है। बाजारों में धन वर्षा और घरों में छोटी दीपावली का माहौल रहेगा। ऐसे संयोग भी खरीदी के लिए विशेष फलदायी रहेगा। ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि इस बार दिवाली भी बुधवार की है और इसके 7 दिन पहले बुधवार को ही पुष्य नक्षत्र आना बहुत शुभकारी है।
बाजारों में महालक्ष्मी के कदमों की आहट सुनाई देने लग गई है। व्यापारियों ने तय कर लिया है कि हर बार की तरह इस बार भी उनका निजी स्तर के साथ-साथ सामूहिक स्तर पर भी स्वागत किया जाएगा। बाजारों में निजी स्तर पर दुकानों और शॉपिंग मॉल में भी सजावट हो रही है। ट्रैफिक की समस्या नहीं आए इस बात को ध्यान में रखते हुए रात में सजावट का काम अधिक किया जा रहा है क्योंकि दिन में खरीदारों की भीड़ बाजारों में उमड़ रही है। व्यापारियों का कहना है कि खरीदारी का जोर 31 अक्टूबर यानी पुष्य नक्षत्र के साथ जोर पकड़ेगा।
वाहनों की डिलीवरी की मारामारी