रेजिडेंट डॉक्टरों की हड़ताल जारी पटरी से उतरी चिकित्सकीय व्यवस्थाएं

37

जोधपुर। जोधपुर। अजमेर के राजकीय जनाना चिकित्सालय के लेबर रूम में जांच के नाम पर पुलिस के जबरन घुसने के मामले में जोधपुर के रेजिडेंट डॉक्टरों की हड़ताल गुरुवार को तीसरे दिन भी जारी रही। इस हड़ताल के कारण चिकित्सा व्यवस्था पटरी से नीचे उतर गई है।

डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज से जुड़े तीनों अस्तपालों में ऑपरेशन टाले जाने लगे है। सिर्फ महत्वपूर्ण ऑपरेशन किए जा रहे है। वहीं वार्डों में भर्ती गंभीर मरीजों के अलावा अन्य मरीजों को डिस्चार्ज करने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। वार्डों में नर्सिंग स्टाफ तो इमरजेंसी व ओपीडी में सीनियर डॉक्टरों ने व्यवस्थाएं संभाली है लेकिन डॉक्टरों की कमी होने से मरीजों को परेशानी उठानी पड़ रही है।
दरअसल अजमेर मेडिकल कॉलेज में चल रही रेजिडेंट डॉक्टरों की हड़ताल के समर्थन में जोधपुर के रेजिडेंट्स भी मंगलवार से संपूर्ण कार्य बहिष्कार पर चले गए थे। इसके चलते मेडिकल कॉलेज से संबद्ध तीनों बड़े
अस्पतालों महात्मा गांधी, उम्मेद और मथुरादास माथुर अस्पतालों में रेजिडेंट डॉक्टर हड़ताल पर है। इस बार रेजिडेंट के साथ ही इन सर्विस डॉक्टर जिन्हें सरकार पीजी करवा रही है, वे भी रेजिडेंट्स के साथ हड़ताल पर चले गए है। इससे यहां चिकित्सकीय व्यवस्थाएं चरमरा गई है। इससे सरकारी अस्पतालों में मरीजों का इलाज नहीं हो पर रहा है और कई ऑपरेशन भी टालने पड़े। इमरजेंसी व ओपीडी में सीनियर रेजिडेंट्स, मेडिकल ऑॅफिसर और सीनियर प्रोफेसर ने कमान संभाल रखी है।

हड़ताल के कारण प्लान ऑपरेशन नहीं हो पा रहे है। सीनियर डॉक्टर इमरजेंसी ऑपरेशन कर रहे है। ऑपरेशन के लिए भर्ती मरीजों को नई डेट दी गई है। हड़ताल के कारण ओपीडी के अलावा वार्ड और इमरजेंसी भी प्रभावित हुई। सीनियर डॉक्टरों का कहना है कि प्लान आपरेशन कर दे लेकिन मरीज की पोस्ट केयर के लिए डॉक्टर नहीं हैं। इसलिए प्लान ऑपरेशन को जब तक बहुत जरूरी हो हड़ताल के समय नहीं करते है। रेजिडेंट एसोसिएशन जोधपुर के अध्यक्ष डॉ. विवेक झाझडिय़ा ने बताया कि जोधपुर रेजिडेंट्स अजमेर मेडिकल कॉलेज में प्रसव के दौरान बिना किसी अनुमति और पूर्व सूचना के पुलिस के लेबर रूम में घुस आने के विरोध में हड़ताल पर है। अजमेर में प्रसव के दौरान पुलिस ऑपरेशन थियेटर में सीधे आ गई थी और रेजिडेंट डॉक्टर के साथ बर्बरतापूर्वक व्यवहार किया। इसको लेकर अजमेर मेडिकल कॉलेज में रेजिडेंट डॉक्टर कार्य बहिष्कार कर रहे है। पुलिसकर्मियों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की प्रशासन से मांग की गई है लेकिन प्रशासन की ओर से मांगें नहीं मानी जा रही है।