अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट ने नयी तारीख दे दी

17

अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट ने नयी तारीख दे दी है – 10 जनवरी, 2019. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 10 जनवरी से पहले सुनवाई के लिए पीठ और उसमें शामिल जजों की जानकारी दे दी जाएगी. 29 अक्टूबर, 2018 को कोर्ट कहा था कि ये मामला जनवरी के पहले हफ्ते में उचित पीठ के समक्ष सूचीबद्ध होगा – और जब 4 जनवरी को अगली तारीख मुकर्रर कर दी गयी है.

60 सेकंड की सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या केस की सुनवाई 10 बजकर 40 मिनट पर शुरू हुई – और महज 60 सेकेंड ही सुनवाई खत्म भी हो गई.

अब राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद की सुनवाई के लिए 6 या 7 जनवरी तक बेंच और उसमें शामिल होने वाले जजों के नाम घोषित कर दिये जाने की बात है. जस्टिस दीपक मिश्रा के रिटायर होने के बाद इस मामले की सुनवाई के लिए कोई विशेष पीठ अब तक नहीं बनी है. 29 अक्टूबर को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसके कौल और जस्टिस केएम जोसेफ के तीन जजों की पीठ ने मामले की सुनवाई की थी.

अयोध्या केस 10 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की विशेष पीठ के सामने होगा. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा है कि केस की सुनवाई के लिए एक रेग्युलर बेंच बनेगी और 10 जनवरी को वही पीठ आगे के लिए आदेश परित करेगी.

एक याचिका दायर कर अयोध्या केस में रोजाना सुनवाई की मांग की गयी थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उस पीआईएल को खारिज कर दिया. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2010 के अपने फैसले में अयोध्या की 2.77 एकड़ जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बराबर बांटने का फैसला सुनाया था. इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 14 अपील दायर की गई हैं.