इस वर्ष की पहली राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन

9

जोधपुर। राजस्थान हाईकोर्ट और अधीनस्थ न्यायालयों में इस वर्ष की
पहली राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन शनिवार को किया गया। राष्ट्रीय लोक
अदालत में आपसी राजीनामा व समझाइश से कई प्रकरणों का निस्तारण
किया गया।
विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष और सत्र न्यायाधीश नरसिंहदास व्यास ने
बताया कि लोक अदालत के लिए जिला न्यायालय परिसर में 22 बैंच स्थापित की गई।
वहीं राजस्थान हाईकोर्ट में पांच बैंच का गठन किया गया। प्रथम बैंच में
जस्टिस सन्दीप मेहता को अध्यक्ष बनाया गया, वहीं द्वितीय बैंच में डॉ. जस्टिस
पुष्पेंद्र सिंह भाटी, तृतीय बैंच में जस्टिस दिनेश मेहता, चतुर्थ बैंच में जस्टिस
विनीत माथुर और 5वीं बैंच में जस्टिस मनोज गर्ग को अध्यक्ष बनाया गया। इन
बैंचों में अध्यक्षों के साथ ही सदस्य भी मनोनीत किए गए। इनमें प्रथम बैंच में अधिवक्ता
प्रदीप शाह, द्वितीय बैंच में अधिवक्ता अजय कोठारी, तृतीय बैंच में अधिवक्ता हरीश
पुरोहित, चतुर्थ बैंच में अधिवक्ता डॉ. सचिन आचार्य और 5वीं बैंच में अधिवक्ता
मुक्तेश माहेश्वरी को सदस्य मनोनीत किया गया था।
प्राधिकरण के सचिव रामदेव सांदू ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में
आपराधिक शमनीय प्रकरण, पराक्रम्य अधिनियम की धारा138 के प्रकरण, मनी
रिकवरी सबंधी मामले, मोटर दुर्घटना क्षतिपूर्ति दावा प्रकरण, श्रम विवाद,
विद्युत एवं जल कर संबधी शमनीय प्रकरण, वैवाहिक प्रकरण, भूमि अधिग्रहण के
प्रकरण, सेवा सेवानिवृत्ति संबंधी लाभों से संबंधित और जिला उच्च न्यायालयों में
लम्बित राजस्व मामलों का निपटारा करने का प्रयास किया गया।