होलिका दहन का यह है मुहूर्त

30

जोधपुर। रंगों का त्यौहार होली बुधवार को श्रद्धा व उल्लास
के साथ मनाया जाएगा। होलिका दहन के बाद गुरुवार को रंगों की
बौछार के साथ होली खेली जाएगी।
होली पर्व का नाम जहन में आते ही खुशी के रंग जहन में उभर कर
सामने आ जाते है। होली के दिन हर गली मौहल्ले में बच्चें-बूढे़
और जवान हाथों में रंग, गुलाल और पिचकारियां लेकर एक दूसरे
को रंगते नजर आते है। इस दिन सड़कों का रंग बदल जाता है और
युवाआें की टोलियां चंग की थाप पर गली मौहल्ले में नाचते-गाते एक
दूसरे को रंग लगाकर बधाई देते है। सूर्यनगरी में भी अब गेरियों की
धमचक शुरू हो गई है। पिछले कई दिनों से शहर की सड़कों पर
गेरियों की धमचक देखी जा रही है। मंगलवार सुबह भी कई स्थानों पर
गेरियों की टोळियां देखी गई। वहीं होली पर्व को लेकर शहर के प्रमुख
बाजारों में रौनक नजर आने लगी है। व्यवसायियों ने अपने प्रतिष्ठानों पर
सजावट करने के साथ होली से संबंधित सामग्री की विभिन्न तरह की दुकानें सजाई
है। प्रेम, सद्भाव का संदेशवाहक होली का त्योहार बुधवार को मनाया जाएगा।
होलिका दहन का मुहूर्त
फाल्गुन सुदी पूर्णिमा को भद्रा रहित प्रदोषकाल में होलिका दहन होता है। इस
बार फाल्गुन पूर्णिमा 20 मार्च को प्रदोष व्यापिनी है। जोधपुर में 20 मार्च को
भद्रा रात्रि 8.58 बजे तक रहेगी। इसीलिए रात्रि 8.58 से रात्रि 9.09 बजे तक

होलिका दहन के लिए समय सर्वश्रेष्ठ रहेगा। इसके अलावा रात्रि 8.58 से रात्रि
11.05 तक शुभ और अमृत का चौघडिय़ा भी होलिका दहन में शास्त्र सम्मत है।