रेल पटरियों पर गर्दन रखी और कट गए, बाड़मेर से लापता युगल ने जोधपुर में किया सुसाइड, एम्स में कराया पोस्टमार्टम

440
demo pic

जोधपुर। बाड़मेर से लापता एक प्रेमी युगल ने जोधपुर के
सांगरिया स्थित रेलवे ट्रेक पर अपनी जान दे दी। दोनों ने अपनी गर्दन
को रेल पटरियों पर रख सो गए। अहमदाबाद जा रही ट्रेन से
मौत हो गई। पुलिस ने पहचान की और एम्स चिकित्सालय में
पोस्टमार्टम करवाया। दोनों एक ही गौत्र के थे। युवती शादीसुदा
और एक बच्चे की मां थी। बच्चा अपने घर पर ही छोड़ कर
जोधपुर आई थी।
कुड़ी थानाधिकारी अशोक आंजणा ने बताया कि रात्रि को
सूचना मिली कि सांगरिया क्षेत्र में रेलवे ट्रेक पर एक युवक और एक
महिला की लाश कटी हुई हालत में पड़ी है। पुलिस मौके पर
पहुंची और मौका कार्रवाई के बाद शव शिनाख्तगी और
पोस्टमार्टम के लिये एम्स की मोर्चरी में पहुंचाया। अस्पताल पहुंचे
परिजनों ने बताया कि मृतक और मृतका एक ही गौत्र के होने के कारण
सामाजिक बंधनों के चलते आपस में शादी नहीं कर सके थे। मृतकों के पास
मिले दस्तावेजों के आधार पर परिजनों को सूचना दी। जिस पर परिजन
जोधपुर पहुंचे और बाड़मेर जिले के सिणधरी थानान्तर्गत मंडावला
गांव निवासी आसाराम पुत्र मूलाराम जाट ने मृतक युवक की शिनाख्त
अपने भाई गोमाराम (21) के रूप में की और बताया कि वह 2 मई को
घर से निकला था। वहीं मृतका की पहचान पुलिस थाना बायतू थानान्तर्गत
पूनिया की बस्ती गांव आदर्श धवा निवासी टीपू देवी (23) पत्नी चूनाराम
जाट के रूप में उसके ससुर रूपाराम पुत्र भीखाराम जाट ने की।
उसने बताया कि वह चार मई की सुबह घर से लापता थी जिसकी
गुमशुदगी भी सदर बाड़मेर में दर्ज करवायी गई थी।
बैग में डाली साड़ी व अन्य सामान:
मौकास्थल पर पुलिस को एक बैग मिला। जिसमें महिला ने अपनी साड़ी व
अन्य सामान डाल रखा था। वक्त घटना वह खुद जींस पेंट व टीशर्ट में
थी। पहचान लायक दस्तावेज भी बैग में ही थे। प्रथम दृष्टया मामला प्रेम
प्रसंग का प्रतीत हुआ है। अनुसंधान जारी है।