बारिश से सड़कों पर बने गड्ढे: परेशान लोगों ने डिगाड़ी में रोका रास्ता

41

पुलिस की समझाइश पर खुलाया गया
जोधपुर, 3 सितम्बर। इस बार शहर में हुई बारिश ने
प्रशासन की पोल खोल दी है। हालांकि पहली ही बारिश में
प्रशासनिक व्यवस्था की पोल खुल जाती है। मगर इस बार अच्छे मानसून
ने शहर की सड़कों को छलनी कर दिया है। आम आदमी जिस रास्ते

से गुजरता है वहीं पर वह चोटिल होने की संभावना भी साथ
लेकर चल रहा है। आज सुबह बनाड़ के निकटवर्ती डिगाड़ी क्षेत्र
के लोगों ने सड़कों पर बने गड्ढों एवं जमा पानी को लेकर
रास्ता जाम कर दिया। बाद में पुलिस के आने पर समझाइश कर
मामला शांत करवाया गया। लोगों ने जल्द ही सड़क नहीं किए जाने
पर आंदोलन की चेतावनी तक दे दी।
जानकारी के अनुसार बरसात के समय पानी की निकासी के अभाव में
रोड पर जमा पानी डिगाड़ी गांव को मुख्य सड़क से जोडऩे वाली
सड़क पर नाले के रूप में बहने लगता है जिस कारण गांववालों का
आना जाना दुर्भर हो गया। आखिरकार आज गांव वालों ने अपने
स्तर पर ही इस पानी की निकासी को रोकने के लिये आर्मी के जवानों
की तरफ कार्रवाई करते हुए वहां पर भर्ती भरनी शुरू कर दी।
गांव वालों ने रास्ता भी रोका और प्रदर्शन भी किया।
प्रशासन के साथ सरकारों को कोसा:
लोगों का आरोप है कि बरसाती पानी की निकासी के लिये
कांग्रेस और भाजपा की दो- दो चरणों की सरकारे आकर चली गई
लेकिन किसी भी पार्टी के नेताओं और जिम्मेदारों ने इस समस्या के
निराकरण के लिये कोई ठोस कदम नहीं उठाए और इसी के चलते
इसी क्षेत्र में बसी आर्मी कॉलोनियो में तो सैन्यकर्मियों ने अपने स्तर पर
बाउंड्री वाल बनाकर और गेट पर रेत के कट्टे रखकर अपने
घरों को सुरक्षित कर दिया। लेकिन इस कारण से बरसाती पानी
पूरा डिगाड़ी रोड पर नाले के रूप में बहने लगा। इस नाले रूपी
बरसाती पानी के कारण मुख्य सड़क से डिगाड़ी तक के डेढ़
किलोमीटर के रास्ते में जगह जगह एक से डेढ़ फुट के गड्डे हो
गये और इसमे रोजाना दुर्घटनाएं होने लगी।
भारी वाहनों की आवाजाही रहती: क्षेत्रवासियों का कहना
है कि डिगाड़ी रोड पर भारी वाहनों की आवाजाही के
कारण सड़क बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई और उस पर बरसाती पानी
के नाले के रूप में चलने से हालात काफी विकट बने हुए है। आज
क्षेत्रवासियों ने रास्ता रोकने के साथ बरसाती पानी को गांव की रोड
पर जाने से रोकने के लिये कचरे और मलबे के डम्पर लाकर खाली
किए और उन्होंने रास्ता भी रोका। क्षेत्रीय पार्षद को भी कई बार
इस बारे में आगाह किया जा चुका है।
फिर हुई बाइक चोर गैंग सक्रिय : शहर में दस स्थानों से
बाइक चोरी
जोधपुर, 3 सितम्बर। शहर में फिर से बाइक चोरों की गैंग सक्रिय
होने लगी है। गत 24 घंटों में पुलिस ने दस बाइक चोरी के
प्रकरण दर्ज किए है।
बनाड़ पुलिस ने बताया कि कन्हैया नगर शिकारगढ़ निवासी
लखवीर सिंह पुत्र जरनेल सिंह सिख की बुलेट घर के बाहर से
चोरी हुई।
दूसरी तरफ महामंदिर पुलिस के अनुसार श्रीबालाजी नगर निवासी
मुकनाराम पुत्र हेमाराम जाट ने बताया कि वह सोमवार को
धर्मनारायण का हत्था क्षेत्र में आया हुआ था जहां पर खड़ी की
उसकी बाइक चोरी हो गई। इसी प्रकार महामंदिर थाने में ही

दी रिपोर्ट में श्रीराम कृष्ण कुंज धर्मनारायण का हत्था पावटा
निवासी राजकमल सोनी पुत्र अमृत सोनी ने बताया कि 2 सितम्बर को घर के
बाहर खड़ी उसकी बाइक को अज्ञात वाहन चोर चुराकर ले गये।
इधर रातानाडा पुलिस ने बताया कि बम्बा मौहल्ला दरगाह के
पास रहने वाले आसिफ हुसैन पुत्र सबीर हुसैन अजीत कॉलोनी आया
था। जहां के उसकी बाइक 2 सितम्बर की सुबह चोरी हुई। इधर
मंडोर पुलिस के अनुसार पहाडगंज प्रथम पीपली चौक मंडोर निवासी
केसर सिंह पुत्र दलपत सिंह राजपूत की बाइक घर के बाहर से
पार हो गई। दिलीप नगर मंडोर के ओमप्रकाश पुत्र गोविन्दराम
की बाइक भी घर के बाहर से चोरी हो गई। इसी प्रकार
कुड़ी भगतासनी थाने मेंं दी रिपोर्ट में हरीश कुमार पुत्र
महेन्द्रसिंह ने बताया कि घर के बाहर खड़ी उसकी बाइक 30 अगस्त
को चोरी हुई। वहीं एमडीएमएच ब्लड बैंक में तैनात डा. जोधाराम
पुत्र देवराजराम जाट ने शास्त्रीनगर पुलिस को बताया कि 31 अगस्त को
एमडीएम अस्पताल परिसर में खड़ी की उसकी बाइक को अज्ञात वाहन चोर
चुराकर ले गया। उधर शिव कॉलोनी चांदणा भाखर निवासी
सलमान पुत्र रहीम खां ने राजीव गांधी नगर पुलिस को बताया कि
मनोहर नगर चौपासन ी में खड़ी उसकी बाइक को अज्ञात वाहन चोर 1
सितम्बर की रात्रि में चुराकर ले गया।इधर सूरसागर में
कबीर नगर हाल भील भाकरी फिदुसर चौपड़ निवासी अशोक पुत्र
जगदीश भील की बाइक भी घर के बाहर से चोरी हो गई।
परिवार रामदेवरा गया: चोर ढाई लाख के आभूषण व नगदी ले
गए

 

दो अन्य स्थानों पर भी लगी सेंध
जोधपुर, 3 सितम्बर। शहर पुलिस के इन दिनों मेला ड्यूटी में व्यस्तता
के चलते चोरों ने इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया है।
कुछ लोग मंदिरों में दर्शन के लिए जा रहे है, ऐसे में चोर सूने
घरों की रैकी कर वारदात को अंजाम देने में लगे है। सूरसागर
का एक परिवार रामदेवरा दर्शनार्थ गया। सोमवार की रात को
लौटा तब अज्ञात चोर घर से ढाई लाख के जेवरात के साथ
हजारों की नगदी पर हाथ साफ कर गए। दूसरी जगहों पर भी
चोरी हुई।
मंगलवार को सूरसागर पुलिस ने बताया कि राजाराम पार्क के
पास सूरसागर मेघवाल बस्ती निवासी दिनेश पुत्र पूनाराम मेघवाल
ने रिपोर्ट दी । इसमें बताया कि वह अपने परिवार के साथ 25 अगस्त से
30 अगस्त तक रामदेवरा दर्शन करने के लिये गया जहां पर इस
दौरान उसका मकान बंद और सूना रहा। तब अज्ञात चोरों ने
उसके मकान में सैंधमारी करके अलमारी और बक्से में रखी नकदी
और छह तोला सोनेे एवं आधा किलो चांदी के जेवरात तथा कीमती
सामान चुराकर ले गए। वहीं रातानाडा के कृष्ण मंदिर के सामने
वाली गली में रहने वाले अर्जुन भाटी पुत्र रामचन्द्र भाटी ने पुलिस
को बताया कि सोमवार को दिनदहाड़े घर में घुसकर अज्ञात
व्यकिक्त अलमारी में रखी 27 हजार रूपये की नकदी और दस्तावेज
चुराकर ले गए। इधर करवड़ थाने में दी रिपोर्ट में जुड
निवासी नारायणराम पुत्र राजूराम जाट ने पुलिस को बताया कि

अज्ञात व्यक्ति उसके ट्यूबवेल पर रखी बिजली की हजारों की केबल
चुराकर ले गया।
मकान खरीदने का झांसा देकर धोखाधड़ी: पीडि़ता को बैंक से
मिला नोटिस
जोधपुर, 3 सितम्बर। एक दम्पति ने एक महिला और उसके परिजनों को
विश्वास में लेकर उनकी खरीदसुदा और कब्जा सुदा मकान को 25 लाख
में खरीदने का झांसा देकर अपने नाम रजिस्ट्री करवा दी और
उक्त मकान के दस्तावेज उसको बगैर भुगतान किये ही अपनी फर्म से
संबंधित बैंक में बतौर गारंटी रखकर उस पर लोन उठा लिया।
करीब दो तीन साल से चल रहे इस गड़बड़ घोटाले की जानकारी
पीडि़ता को जब बैंक उक्त राशि की रिकवरी नहीं होने पर नोटिस
चस्पा करने आयी तो पता लगी। पीडि़ता ने जरिये अदालत इस्तगासा
आरोपी के खिलाफ बोरानाडा थाने में उसके साथ हुई धोखाधड़ी का
मुकदमा दर्ज करवाया।
मंगलवार को बोरानाडा पुलिस ने बताया कि इस संबंध में लक्ष्मण
विहार योजना पाल निवासी पार्वती देवी पत्नी मूलाराम पटेल ने
रिपोर्ट दी। इसमें पुलिस को बताया कि उसका एक मकान पाल गांव में
आया हुआ है जिसको उसने 18 मई 2015 को प्लॉट के रूप में खरीदा
और बाद में उसके सरकारी दस्तावेज बनाकर उस पर मकान
बनाकर रहने लगी। तब उसने तय किया कि उक्त प्लाट और मकान
बेचकर नया लिया जाए जिस पर उसके परिचित महेन्द्र सिंह पुत्र
नरेनद्र सिंह सांखला और उसकी पत्नी बीनू पवार निवासी खिचियो ंकी
हवेली बागर चौक ने उक्त सम्पति 25 लाख में खरीदने की इच्छा जाहिर
की। दोनों परिवारो के परिचित होने पर उसने उक्त मकान को
महेन्द्रसिंह और उसकी पत्नी बीनू को बेचना तय किया।
तय रकम 25 हजार रूपये में बेचने पर उसने कोर्ट पहुंच कर उक्त
सम्पति महेन्द्रसिंह की पत्नी बीनू पंवार के नाम स्टाम्प पर कार्रवाई
की और उक्त बेचान को रजिस्टर्ड भी करवाया। मामला दोनों
परिवार के बीच जान पहचान का होने के कारण उसने विश्वास
करके महेन्द्रसिंह के बताये अनुसार दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर
दिये और उक्त बेचान नामा रजिस्ट्री आफिस में भी रजिस्टर्ड
करवा। इस सम्पति के बेचान नामे के पेटे उसको आरोपी महेन्द्रसिंह
ने 20 लाख और पांच लाख के दो चैक दिये जिसको नियत समय पर लगाने की
बारी आयी तो आरोपी महेन्द्रसिंह ने भुगतान की व्यवस्था नहीं होने का
कहकर उक्त चैक कुछ दिनों के लिये रूकवा दिये।
पुलिस को दी जानकारी में पीडि़ता ने बताया कि कुछ दिन माह में
बदलते गये और इसी दौरान आरोपी ने एक पांच लाख रूपये का चैक
उसके पुत्र अखेराज के खाते में 17 अक्टूबर को बैंक से पास करवा
दिये। और उसके बाद शेष राशि के लिये टालमटोल करने लगा।
इसी दौरान उसने भुगतान नहीं होने पर उक्त सौदा कैंसिल करने के
लिये दबाव बनाना शुरू किया तो आरोपी नाराज होने लगा और
हरबार कुछ दिन की मोहल्त मांगने लगा। लेकिन पीडि़ता ने इसी
दौरान अपने साथ ठगी की आंशका के चलते उक्त बेचानामा निरस्त
करवाने के लिये श्रीमानजिला न्यायाधीश महानगर के न्यायालय में
वाद भी दायर किया जो कि विचाराधीन है।

इसी दौरान पीडब्ल्यूडी कॉलोनी स्थित यस बैंक के अधिकारी उसके
वर्णित और हाल कब्जा सुदा मकान पर आये और उक्त मकान पर खुद
का मालिकाना हक जताते हुए नोटिस चस्पा किया जिसमे उन्होने बताया
कि बीनू पंवार ने उक्त सम्पति के दस्तावेज जो कि उसके नाम से निष्पादित
किये जाचुके थे को अपनी फर्म मैसर्स विजुअल इलेक्ट्रो प्लाजा के लिये
मोडगेज को बोरोबर के रूप में बैंक में रखकर रकम उठा ली और
उसका भुगतान नहीं करने पर बैंक उक्त सम्पति को निलाम करके अपनी
राशि वसूल करेगा। इस पर पीडि़ता ने बैंक के अधिकारियों को
वस्तुस्थिति से अवगत कराने के साथ कानूनी नोटिस दिया तो बैंक ने भी उक्त
मामले में आरोपी दम्पति को दोषी माना। पुलिस ने अब मुकदमा दर्ज कर
मामले की जांच शुरू की।