पाली की एनआर और सीआर गैंग ने साउथ के बाद मारवाड़ में फैलाए पैर

16

बिलाड़ा में हुई गैंगावार में अपहृर्त का नहीं लगा सुराग, अपहृर्त युवक
अजमेर ब्यावर का वांटेड
जोधपुर। पाली जिले की नाथुराम एवं चतुराराम गैंग ने दक्षिण भारत में
अपने बदमाशियों के बाद मारवाड़ में पैर पसार लिए है। इसका ताजा
नतीजा रविवार के रात को जोधपुर के बिलाड़ा तहसील क्षेत्र में हुई
गंैगवार में देखने को मिला। इधर अपहृर्त हुए युवक का पता नहीं लगा है।
पुलिस का कहना है कि अपहृर्त युवक खुद अजमेर, ब्यावर और पाली पुलिस का
वांटेड है। अब जोधपुर की ग्रामीण पुलिस इनकी तलाश में लगी है।
इधर घायल का जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में उपचार
जारी है। सोमवार को पुलिस ने पर्चा बयान पर हत्या प्रयास में मामला दर्ज
किया था।
पुलिस उपअधीक्षक मुमताज खां ने बताया कि अपहृर्त लीलाराम का पता नहंी लगा
है। अपराधियों की गैंग के लोगों की सरगर्मी से तलाश की जा रही है।
ये लोग पहले साउथ एरिया में बदमाशियां करते थे जो अब ठिकाना बदल
कर मारवाड़ में आए है।
सनद रहे कि बिलाड़ा के जेतिवास रोड स्थित चौपड़ा फीडर पुलिए पर पुलिस को
रविवार देर रात सडक़ हादसे की सूचना मिली थी। घटनास्थल पर एक कार
क्षतिग्रस्त अवस्था में खड़ी मिली। पास ही एक घायल अवस्था में व्यक्ति पड़ा था। उसे
ट्रोमा सेंटर में भर्ती करवाने के बाद पूछताछ की गई। व्यक्ति ने अपना नाम
दुदाराम पुत्र पप्पूराम निवासी बताया। उसने जानकारी दी कि वह साथी
लीलाराम के साथ कार में खारिया नीव से अपने गांव की ओर लौट रहा
था। तब एक स्कॉर्पियो गाड़ी से चतुरराम और आठ-दस अन्य बदमाश आए।
चौपड़ा फीडर पुलिए के पास सामने से आ रही स्कॉर्पियो ने कार को पहले
टक्कर मारी फिर दोनों को बाहर निकाल कर मारने का प्रयास किया।
एेसे में भागने के प्रयास में हमलावरों ने पीछे से गोलियां चलाई। जिससे एक
गोली उसकी जांघ में जा लगी। पास ही खेत में बने मकान में भाग कर उसने जान
बचाई। वहीं साथी लीलाराम को हमलवार अपने साथ लेकर चले गए। घायल
युवक दूदाराम को प्राथमिक उपचार के बाद सघन इलाज के लिए जोधपुर के
मथुरादास माथुर अस्पताल भेजा गया। घटनास्थल पर पुलिस को करीब आधा
दर्जन कारतूस के खाली खोल मिले हैं। वहीं अभी तक बदमाशों का भी कोई सुराग
नहीं लग पाया है। घायल ने बताया कि हमलावरों में चुतराराम जाखड़,
राकेश गुडग़ुडिय़ा, चेतन मुंडेल, संजय बोराणा, बबलू फिरोदा, अशोक
ग्वाला, ऋतुराज देवासी, एक्सेल विश्नोई थे। घटनास्थल से पुलिस को 6 गोलियों
के खोल मिले हैं। साथ ही मील व पुलिए पर स्कॉडा कार मिली है। पुलिस पूरे
मामले की जांच में जुटी है।

बताया गया है कि यह बदमाश बीते साल जैतारण के नजदीक मुठभेड में चेन्नई
पुलिस पर हमला करने वाली नाथूराम गैंग के है। पहले चुतराराम और
लीलाराम दोनों एक ही गैंग में थे लेकिन अब दोनों अलग हो गए। पिछले साल पाली जिले
के कुख्यात अपराधी नाथूराम को एक चोरी के मामले में पकडने चेन्नई पुलिस
पकडने आई थी। बाद में एक सब इन्सपेक्टर पर फायरिंग कर नाथूराम भाग
निकला था। चतराराम और लीलाराम दोनों ही पहले एक ही गैंग में शामिल थे
लेकिन बाद में अलग हो गए। गौरतलब है कि जोधपुर ग्रामीण एसपी राहुल बारहठ
ग्रामीण इलाकों में सक्रिय अपराधियों पर नकेल कसने की कोशश कर रहे
है लेकिन जोधपुर जिले में अपराधी बेखौफ होकर गैंगवार के साथ फायरिंग
की घटनाओं को अंजाम दे रहे है। बीते दिन कुख्यात अपराधियों ने हथियारों
के साथ नाच-गाने के वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल किए थे। हालांकि
ग्रामीण पुलिस ने उनमें से कुछ को अरेस्ट भी कर लिए। अब दक्षिण भारत में
जाकर लूट और डकैती को अजांम देने वाले नाथूराम गैंग के बदमाश जोधपुर
जिले में दहशत फैला रहे है।

 

जोधपुर अहमदाबाद रोडवेज बस से
कंडक्टर का बैग चोरी
जोधपुर। शहर के पावटा रोडवेज
बस स्टेण्ड पर जोधपुर से अहमदाबाद जाने
वाली बस में कंडक्टर का एक बैग चोरी हो
गया। इसमें बस यात्रियों की टिकट बुकिंग,
रूपए एवं अन्य जरूरी सामान था। घटना 31 अगस्त
रात की है। सोमवार को बस जोधपुर
पहुंची तब कंडक्टर की तरफ से रात में
मामला दर्ज कराया गया। पुलिस ने आज सुबह
मौका मुआयना करने के साथ जांच आरंभ
की। फिलहाल बैग चोर का पता नहीं लगा है।
मंगलवार को रोडवेज बस चौकी प्रभारी
नेमाराम ने बताया कि कंडक्टर निंबाराम
पुत्र लक्ष्मणराम की तरफ से यह रिपोर्ट दी
गई। इसमें बताया कि वह जोधपुर से
अहमदाबाद बस में परिचालक पद पर कार्यरत
है। 31 अगस्त की रात दस बजे के आस पास वह इस
बस को लेकर पावटा रोडवेज बस स्टेण्ड
से रवाना होने वाला था। तब वह किसी काम
से कार्यालय की तरफ गया और अपना बैग बस
की सीट पर छोड़ गया।
कुछ देर बाद लौटा तब बैग नहीं मिला।
इसमें यात्रियों की टिकट बुकिंग, दो
हजार रूपए, अन्य दस्तावेज आदि थे। वक्त
घटना बस लेट ना हो इस वजह से वह पुलिस

के पास नहीं आया। मगर सोमवार को यह
बस फिर जोधपुर आई तब वह उदयमंदिर
थाने पहुंचा और प्रकरण दर्ज करवाया।