सीएम पुत्र वैभव गहलोत बोल रहा हूं.. कहकर ऑडी कार उड़ाई

120

शातिर ठग सुरेश के खिलाफ धोखाधड़ी का एक और प्रकरण दर्ज
जोधपुर। गाडिय़ों के शो रूमों में
फोन पर कारों का उड़ाने वाले शातिर
ठग सुरेश घांची के खिलाफ एक और
प्रकरण सामने आया है। इस बार उसके
खिलाफ बासनी थाने में मंगलवार की रात को
रिपोर्ट दी गई। इसमें ऑडी कार
मैनेजर की तरफ बताया गया कि उसने सीएम
पुत्र वैभव गहलोत का हवाला देने के साथ खुद
आकर पौने छह लाख की कार ले गया। बदले
मेंं दिया गया चेक अनादरित हो गया।
बुधवार को बासनी पुलिस ने बताया कि
इसके खिलाफ प्रकरण सामने आने पर पीडि़त
मैनेजर रात को पुलिस के पास पहुंचा और
प्रकरण दर्ज करवाया। इधर आरोपी अभी
शास्त्रीनगर पुलिस में रिमाण्ड पर चल
रहा है। इस बारे में ऑडी मोटर
प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजर राजेंद्र

चतुर्वेदी पुत्र दाउलाल की तरफ से रिपोर्ट दी
गई है।
इसके अनुसार पाली के सुरेश घांची ने 24
अगस्त को फ ोन कर बताया कि वह सीएम पुत्र
वैभव गहलोत का परिचित बोल रहा है
और ऑडी कार खरीदने की मंशा जाहिर
की। 30 अगस्त को वह कार लेेने पहुंचा और
बताया कि वह वैभव से बात करवा सकता है। इस
पर विश्वास कर मैनेजर ने ऑडी कार के
कागजात की कार्रवाई के बाद उसे कार
सौंप दी। बदले में पांच लाख पचहत्तर हजार
का चैक दिया। जो अगले दिन अनादरित हो गया।
सनद रहे कि शहर के शास्त्रीनगर इलाके
के न्यू पावर हाउस रोड पर बने कार शोरूम
(केडी मोटर्स) के मालिक के साथ ठगी की
वारदात हो गई थी। ठगी करने वाला पाली का
हिस्ट्रीशीटर निकला, जिसे पुलिस ने रविवार
को गिरफ्तार कर लिया था। पाली रामदेव
रोड निवासी सुरेश पुत्र भंवरलाल घांची से
ठगी की कार बरामद के प्रयास जारी हैं। गत 19
अगस्त को हिस्ट्रीशीटर सुरेश ने शोरूम
मालिक पाल लिंक रोड निवासी किशन देवड़ा
पुत्र मोहनलाल को फोन कर खुद को पाली का पूर्व
विधायक भीमराज भाटी बताया और बोला कि
एक परिचित जिसका नाम सुरेश है वो आएगा उसे
अच्छी कंडीशन की एक सेकंड हैंड कार दे देना।

इसके कुछ ही देर बाद हिस्ट्रीशीटर वहां
पहुंचा और पूर्व विधायक भीमराज भाटी (जिसे
परिचित बनाया) का हवाला देते हुए कार लेने
की बात की। इस पर शोरूम मालिक ने भी विश्वास
करते हुए शातिर को एक कार पसंद करने के
लिए अन्य स्टॉफ के साथ उसे भेज दिया। शातिर
ने कार पसंद कर वापस शोरूम के मालिक के
पास पहुंचा और पांच लाख रुपए का चेक थमा
दिया। तभी पीछे से आए एक स्टॉफ ने कार की
चाबी भी शातिर को दे दी, तो वहां से चला गया।
कार की चाबी हिस्ट्रीशीटर के हाथ में आने
के बाद उसने शोरूम मालिक को एक पांच लाख रुपए
का चेक (एसबीआई) दिया, अगले दिन पता चला कि चेक
में गड़बड़ी हैं, तो उसे फोन कर शोरूम मालिक
बताया। इस पर उसने दूसरा चेक भेजने का
बोला वो भी एसबीआई का ही था। लेकिन उस चेक
में भी कांटछांट होने से वो भी डिसऑनर हो
गया। फिर शोरूम मालिक ने हिस्ट्रीशीटर
को फोन कर बताया कि दूसरा चेक भी नहीं लग
रहा। फिर हिस्ट्रीशीटर ने तीसरा चेक भी
शोरूम में भेजा, लेकिन वो भी डिसऑनर हो
गया। इसके बाद जब शोरूम मालिक ने बात करनी
चाही तो फोन बंद आने लगा।
30 से अधिक ठगी समेत अन्य मामले दर्ज:
पाली कोतवाली के हिस्ट्रीशीटर सुरेश पर
करीबन 30 से अधिक मामले ठगी व अन्य प्रकरणों

के दर्ज है। जोकि शातिराना तरीके से हर
बार लोगों को ऐसे ही ठगी करता है। इससे अब
पुलिस उक्त दो कारों की बरामदगी के
प्रयास में लगी है। वह अभी शास्त्रीनगर पुलिस
की अभिरक्षा में चल रहा है।