चट्टान गिरने का मामला: सौ टन वजनी चट्टान के टुकड़े करने का कार्य शुरू

18

जोधपुर। कुछ दिन पहले मसूरिया पहाड़ी से गिरी एक बड़ी चट्टान के
टुकड़े करने का कार्य शुक्रवार को शुरू किया गया। करीब सौ टन
वजनी इस शिलाखंड को तोडऩे व विस्फोट के लिए चाइनीज बारूद का
उपयोग किया जा रहा है। यह कार्य नगर निगम करवा रहा है। इसके
लिए ऐहितयात के तौर पर आसपास के क्षेत्र को खाली करवाया गया है।
दरअसल मसूरिया इलाके में गत बुधवार सुबह पहाड़ी से बड़े पत्थर दरक कर
तलहटी में बसी बैंक कॉलोनी पर आ गिरे थे। यहां लगातार बारिश के
चलते पहाड़ी के पत्थर दरक गए थे। इस कारण तीन मकान क्षतिग्रस्त हो गए थे। इसमें
एक मकान पूरी तरह से दब गया था। नगर निगम ने शुक्रवार को पहाड़ी से
गिरी करीब इस सौ टन वजनी शिलाखंड को हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी।
शिलाखंड को तोडऩे के लिए पत्थर खनन से जुड़े विशेषज्ञों की मदद ली गई है।
इसके तहत शिलाखंड पर छेद कर उनमें चाइनिज बारूद के माध्यम से तोड़ा जा रहा
है। बताया गया है कि शिलाखंड का वजन अधिक होने के कारण उसे किसी मशीन
से हटाना संभव नहीं हो पाया। इसके बाद निगम ने खनन क्षेत्र में काम करने
वाले लोगों से संपर्क किया। शुरुआत में उन्होंने ढाई लाख रुपए मांगे लेकिन
निगम के पास इतना बजट ही नहीं था। इस पर खनन क्षेत्र में काम करने वाले एक
ठेकेदार से बात की गई। उसने करीब 50 से 75 हजार के खर्च में चाइनीज
ब्लास्टिंग पावडर से चट्टान तोडऩे की बात कही। इस पर निगम तैयार हो गया।
शिलाखंड पर करीब 120 छेद किए जाएंगे। इन छेद में चाइनीज बारूद भरा जा
रहा है। यह बारूद पत्थर को अपनी जगह छोडऩे के लिए मजबूर कर देता है और
बिना आवाज, धमाकों के साथ हिस्सों में बंट जाएगा। अगर तेज आवाज या कंपन
होता है तो पहाड़ी पर लटक रहे दूसरे टुकडों के गिरने की संभावना भी है
इसलिए एहतियातन आसपास रहने वालो को शिफ्ट किया गया है।